राहुकाल में कौन कौन से काम नही करना चाहिये।rahukaal me kaun se kam nahi karna chahiye? - Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

Latest

Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

ourbhakti.com - पर आपका स्वागत हैं यहाँ से आप हिन्दू धर्मं से सम्बंधित जानकारी जैसे ज्योतिष विज्ञान ,पूजा पाठ ,ग्रह शांति , हवन ,व्रत कथा ,वास्तु ,राशिफल, साथ ही सनातन धर्मं की रोचक जानकारी पा सकते हैं ।

राहुकाल में कौन कौन से काम नही करना चाहिये।rahukaal me kaun se kam nahi karna chahiye?

राहुकाल में कभी ना करे शुभ काम

वैदिक ज्योतिष में राहु ग्रह को एक पाप ग्रह की संज्ञा दीगई है वैदिक ज्योतिष में राहु संकट कारक माना गया है ।ऐसा माना जाता है कि कोई शुभ काम करना हो तो सबसे पहले राहु काल का विशेष ध्यान देना चाहिए।

अगर हम शुभ कार्य मे राहु काल का ध्यान नही रखेंगे तो उस कार्य मे बिघ्न आ सकता है।ज्योतिष शास्त्र में ग्रहो का एक अपना अपना समय होता है ।

ठीक इसी प्रकार से दिन और रात में भी पूरे 9ग्रहो का एक अपना समय होता है ।उसी में से एक राहुकाल भी आता है।

ज्योतिष के अनुसार एक दिन में एक बार राहुकाल आता है और ये अलग अलग दिन में अलग अलग समय पर आता है।

आज हम यह जानेंगे कि राहु काल का समय क्या है ? राहुकाल को कैसे पता करें?

 भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहुकाल का समय  डेड घंटे का होता है(rahukaal) जो सातो बार के अनुसार इस प्रकार है-

राहुकाल में कौन कौन से काम नही करना चाहिये।rahukaal me kaun se kam nahi karna chahiye?
राहुकाल में कौन कौन से काम नही करना चाहिये।rahukaal me kaun se kam nahi karna chahiye?
*सोमवार को सुबह  7:30 से 9 बजे तक राहुकाल रहता है।

*मंगलवार को दिन में 3 बजे से 4:30 तक रहता है।

* बुधवार को दिन में 12: बजे से 1:30 तक।

* गुरुवार को दिन में 1:30 बजे से 3:00 बजे तक।

* शुक्रवार को सुबह 10:30 बजे से 12 बजे तक रहता है।

* शनिवार को सुबह 9 बजे से 10:30 तक रहता है।

* रविवार को राहुकाल सायं 4:30 बजे से 6 बजे तक रहता है।

नोट- कही कही लोग राहु काल को रात में मानते है पर ये सभी जगह सही नही होता क्यों कि हम लोग ज्यादा तर शुभ कार्य दिन में करते है अतः राहुकाल की गड़ना दिन में करना चाहिए।

राहु काल मे कौन कौन काम की शुरआत नही करना चाहिये?

* राहु काल में कोई भी दैविक कार्य नही करनी चाहिए जैसे-पूजा,हवन,कथा ,कोई मांगलिक कार्य मुंडन,गृह प्रवेश,विवाह,आदि की शुरुवात नही करनी चाहिये।

*  अगर आप कोई ब्यापार (business)शुरू करने जार हे है तो राहु काल का विशेष ध्यान रखे।

* राहुकाल में यात्रा करना भी हानिकारक होता है।

       यदि किसी कारण वस राहुकाल में कोई मांगलिक कार्य करना पड़े तो ऐसी स्थिति ने अपने इस्ट देव को याद करे उनका पूजन करे और अपने इष्ट देव को प्रसाद का भोग लगाकर फिर काम पे लग जाये ऐसा करने से राहु की कुदृष्टि नही पड़ेगी।

     तो दोस्तों यदि आप को इस लेख से कुछ भी लाभ हुवा हो और आप के मन मे कुछ भी सवाल या सुझाब हो तो हमे जरूर कमेंट के माध्यम से  बताने का कष्ट करे।
                                              धन्यबाद...............

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

इस लेख से सम्बंधित अपने विचार कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं