shadi aur mangalik yog | मांगलिक होना कोई गुनाह नहीं - Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

Latest

Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

ourbhakti.com - पर आपका स्वागत हैं यहाँ से आप हिन्दू धर्मं से सम्बंधित जानकारी जैसे ज्योतिष विज्ञान ,पूजा पाठ ,ग्रह शांति , हवन ,व्रत कथा ,वास्तु ,राशिफल, साथ ही सनातन धर्मं की रोचक जानकारी पा सकते हैं ।

shadi aur mangalik yog | मांगलिक होना कोई गुनाह नहीं

shadi aur mangalik yog | मांगलिक योग है या दोष? 

जब भी आप शादी करने का मन बनाले तो उस समय mangalik dosh का विचार अवश्य करे क्यों की shadi aur mangalik yog का सही मिलान ही आपके वैवाहिक जीवन में खुशिया ला सकता हैं 


मंगल ग्रह को लेकर हमारे समाज में बहुत सारी भ्रांतियां फैला रखी है मंगल ग्रह से लोग क्यों डरते हैं समझ में नहीं आता ?

सबसे पहले तो मंगल ग्रह से संबंधित जो भ्रांति है उसको जानना जरूरी है उसके बाद हम shadi aur mangalik yog के विषय में चर्चा करेंगे  बहुत सारे विद्वानों का ज्योतिषियों का यह कहना है की मंगल एक पापी ग्रह है 

 हम आपको बता देते हैं मंगल एक पापी ग्रह नहीं है मंगल शुभ ग्रह भी नहीं है मंगल एक क्रूर ग्रह है यदि किसी का वैवाहिक जीवन ठीक नहीं चल रहा है  

तो लोग यही कहेंगे जरूर इसका  मंगल ग्रह खराब होगा मांगलिक होगा इसलिये एसा हो रहा है कोई गुस्सैल आदमी होगा तो भी लोग कहेंगे यह इतना गुस्सा करता है इसका मंगल ग्रह खराब हैं 

 क्या मंगल ग्रह इतना  बुरा है! क्या हमारे जीवन में सारी परेशानियों का जड़ ही मंगल ग्रह है आज के इस लेख में हम मंगल ग्रह से संबंधित भ्रान्तियों को जानेंगे साथ ही साथ mangalik yog aur shadi के विषय में भी जानेंगे 
 

Aapki shadi aur mangalik yog|आपकी शादी और मांगलिक योग 


 मंगल ग्रह कब अच्छा होता है और किन किन परिस्थितियों में मंगल बुरा फल देता हैं 

shadi aur mangalik yog
shadi aur mangalik yog

mangalik yog aur mangal ka prabhav,मांगलिक योग और मंगल का प्रभाव 

मंगल ग्रह सबसे पहले तो खून का,करीयर का,भावनाओं का,स्वास्थ्य का,साहस आदि का कारक होता है ।

सबसे महत्वपूर्ण बात मंगल ग्रह हमारे स्वभाव का भी कारक होता है। इसीलिए मंगल ग्रह को वैवाहिक जीवन में इतना महत्व दिया जाता है

kya hai mangalik dosh | क्या होता है मांगलिक दोष

हमारे समाज में ज्यादातर भ्रांतियां मंगल दोष के ऊपर ही है मंगल दोष तभी होता है जब मंगल कुंडली के 1,4,7,8 और 12 भावों  में बैठता है

यदि वाकई किसी के जन्म कुंडली में मंगल दोष है तो उसका विवाह मंगल दोष से युक्त वाले के साथ ही होना चाहिए 

अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो आने वाला वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं होगा

मंगल ग्रह अच्छा फल भी देता है जिसको जानना जरूरी है

हमारे जीवन में मंगल ग्रह अच्छा फल भी देता है जिसको हमें जानना जरूरी है। यदि हमें मंगल ग्रह के अच्छे चाहिये तो सबसे पहले हमें यह जानना होगा मंगल  ग्रह हमारे जन्म कुंडली के किस भाव में बैठा है

कौन सी राशि में बैठा है कौन से ग्रह के साथ बैठा है यदि मंगल कुंडली के लग्न में बैठा है तो जातक ज्यादा सुंदर नहीं होता है पर चेहरे में लालिमा जरूर रहती है

 प्रथम भाव में मंगल ग्रह अपनी माता ,जीवन साथी और पूर्ण रूप से वैवाहिक जीवन के प्रति उतना अच्छा नहीं माना जाता जिनके लग्न में मंगल बैठा हो

अब बात करते हैं फायदे की 

यदि मंगल जन्मकुंडली में प्रथम भाव में यानी लग्न में बैठा हो तो व्यक्ति बहुत ज्यादा साहसी होता है बहुत पराक्रमी होता है मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों में भी समस्या का हल निकाल लेता है
what is mangalik dosh&yog
shadi aur mangalik yog

 बस हमें इतना ध्यान रखना होता है कि मंगल कौन सी राशि में बैठा है कौन से ग्रह के साथ बैठा है यदि अच्छे ग्रह के साथ मंगल बैठा है तो अच्छा फल देता है

 अगर मंगल ग्रह गलत स्थान पर बुरे ग्रहों के साथ बैठा हो तो बुरा भी करता है यदि मंगल ग्रह चतुर्थ भाव में बैठा होतो मंगल का प्रभाव सबसे कम होता है

 चतुर्थ भाव में बैठा मंगल वैवाहिक जीवन में तालमेल नहीं होने देता यदि जातक के जन्म कुंडली में मंगल चतुर्थ भाव में शुभ ग्रह के साथ  बैठा हो तो वह किसी दूसरे आदमी को आकर्षित  करने की क्षमता रखता है

सुंदर व्यक्तित्व वाला होता है मंगल यदि कुंडली के सातवें भाव में हो तो व्यक्ति ज्यादा हिंसक होता है गुस्सैल होता है दूसरे की बातों को ना सुनने वाला होता है

 ज्यादा झगड़े लड़ाई करने वाला होता है सप्तम भाव के मंगल को वैवाहिक जीवन में सबसे अशुभ मांगलिक योग कहा गया है 

 यदि मंगल सातवें भाव में अच्छे ग्रह के साथ बैठा हो तो ऐसे लोगों को मान सम्मान मिलता है संपदा मिलती है और वैवाहिक जीवन खुशहाल रहता है

अगर मंगल कुंडली के आठवें भाव में हो तो जातक के वाणी मैं दोष उत्पन्न कर देता है जिसके चलते जातक को अकेलेपन का एहसास होता है

 कभी कभी त्वचा संबंधी बीमारियां भी दे देता है दुर्घटनाओं के योग भी देता है अगर अष्टम भाव में बैठा मंगल शुभ फल दे तो आकस्मिक धन का लाभ भी होता है

यदि मंगल कुंडली के द्वादश भाव में हो तो ज्यादा जातक को स्थिर नहीं होने देता मन में ज्यादा बेचैनी उत्पन्न कर देता है द्वादश भाव का मंगल दैनिक जीवन में एक दूसरे के प्रति अहंकार भर देता है

वहीं मंगल यदि द्वादश भाव में अच्छे योग में बैठा होतो घर से दूर विदेशों में जाकर मान प्रतिष्ठा पा लेता है सबका प्यार पा लेता है

मांगलिक होने का अर्थ यह नहीं है कि वह हमेशा बुरा ही करें मांगलिक होने के साथ-साथ मंगल ग्रह शुभ फल देता है |


कैसे खत्म किया जा सकता है मांगलिक दोष को

 मंगल ग्रह से वाकई समस्याएं आ रही हैं पति पत्नी के बीच रिश्ते अच्छे नहीं हैं शरीर कमजोर है आत्म बल नहीं है साहस नहीं है तो हमें मंगल ग्रह को ठीक करना होगा

 मंगल ग्रह को ठीक करने के लिए हमारे ज्योतिष शास्त्र में बहुत सारे उपाय कहे गए हैं उन उपायों में से कुछ उपाय हम यहां पर बता रहे हैं

  • मंगलवार का व्रत करें
  • मंगल ग्रह का जाप करें
  • हनुमान चालीसा का नित्य पाठ करें 
  • लाल कपड़ों से परहेज करें, 
  • अपनों से बड़ों का सम्मान करें |


तो दोस्तों ये था मंगल ग्रह से सम्बंधित कुछ खास जानकारी यदि आप के पास कोई सवाल या सुझाब हे तो कृपया आप हमसे संपर्क करे

TAG-shadi aur mangalik yog