शादी और मांगलिक योग,shadi aur mangalik yog


mangalik yog, मांगलिक योग

  मंगल ग्रह को लेकर हमारे समाज में बहुत सारी भ्रांतियां फैला रखी है | मंगल ग्रह से लोग जितना डरते हैं उतना डरावना मंगल ग्रह है नहीं आखिर क्यों  डरते हैं ?सबसे पहले तो मंगल ग्रह से संबंधित जो  भ्रांति है उसको जानना जरूरी है |  बहुत सारे विद्वानों का ज्योतिषियों का यह कहना है की मंगल एक पापी ग्रह है यहां हम आपको एक बात बताएं मंगल एक पापी ग्रह नहीं है  | मंगल शुभ ग्रह भी नहीं है मंगल एक क्रूर ग्रह है  | मंगल ग्रह से यदि किसी का वैवाहिक जीवन ठीक नहीं चल रहा है तब भी लोग कहेंगे जरूर इसका  मंगल ग्रह खराब होगा  | मांगलिक होगा यदि कोई गुस्सैल आदमी होगा तो भी लोग कहेंगे यह इतना गुस्सा करता है इसका मंगल ग्रह खराब होगा क्या वाकई मंगल ग्रह हमारे जीवन में बुरा ही करता है अच्छा कुछ नहीं करता? क्या हमारे जीवन में सारी परेशानियों का जड़ ही मंगल ग्रह है आज के इस लेख में हम मंगल ग्रह से संबंधित  कुछ बात करेंगे मंगल ग्रह कब अच्छा होता है और किन किन परिस्थितियों में मंगल ग्रह पूरा करता है |


मंगल ग्रह का प्रभाव 


मंगल ग्रह सबसे पहले तो खून का , करीयर का, भावनाओं का, स्वास्थ्य का , साहस आदि का कारक होता है ।सबसे महत्वपूर्ण बात मंगल ग्रह हमारे स्वभाव का भी कारक होता है। इसीलिए मंगल ग्रह को इतना महत्व दिया जाता है वैवाहिक जीवन में |

क्या होता है मांगलिक दोष
हमारे समाज में ज्यादातर भ्रांतियां मंगल दोष के ऊपर ही है मंगल दोष तभी होता है जब मंगल कुंडली के 1,4,7,8 और 12 भावों  में बैठता है तब होता है मंगल दोष. यदि वाकई किसी के जन्म कुंडली में मंगल दोष है तो उसका विवाह मंगल दोष से युक्त वाले के साथ  ही होना चाहिए अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो आने वाला वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं होगा  |

मंगल ग्रह अच्छा फल भी देता है जिसको जानना जरूरी है

हमारे जीवन में मंगल ग्रह अच्छा फल भी देता है जिसको हमें जानना जरूरी है। यदि हमें मंगल ग्रह के अच्छे फल को जानना है तो सबसे पहले हमें यह जानना होगा मंगल  ग्रह हमारे जन्म कुंडली के किस भाव में बैठा है कौन सी राशि में बैठा है कौन से ग्रह के साथ बैठा है यदि मंगल कुंडली के लग्न में बैठा है तो जातक ज्यादा सुंदर नहीं होता है पर चेहरे में  लालिमा जरूर रहती है प्रथम भाव में मंगल ग्रह अपनी माता ,जीवन साथी और पूर्ण रूप से वैवाहिक जीवन के प्रति उतना अच्छा नहीं माना जाता जिनके लग्न में मंगल बैठा हो  |
अब बात करते हैं फायदे की 
यदि मंगल जन्मकुंडली में प्रथम भाव में यानी लग्न में बैठा हो व्यक्ति बहुत ज्यादा साहसी होता है |  बहुत ज्यादा पराक्रमी होता है|  मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों में भी समस्या का हल निकाल लेता है|  बस हमें यह ध्यान देना होता है कि मंगल कौन सी राशि में बैठा है कौन से ग्रह के साथ बैठा है यदि अच्छे ग्रह के साथ मंगल बैठा है तो अच्छा फल करता है यदि मंगल ग्रह गलत स्थान पर बुरे  ग्रहों के साथ बैठा हो तो बुरा भी करता है | यदि मंगल ग्रह चतुर्थ भाव में बैठा होतो मंगल का प्रभाव सबसे कम होता है चतुर्थ भाव में बैठा मंगल वैवाहिक जीवन में तालमेल नहीं होने देता | यदि जातक के जन्म कुंडली में मंगल चतुर्थ भाव में शुभ ग्रह के साथ  बैठा हो वह किसी दूसरे आदमी को आकर्षित  करने की क्षमता होता है सुंदर व्यक्तित्व वाला होता है मंगल यदि कुंडली के सातवें भाव में हो तो व्यक्ति ज्यादा हिंसक होता है, गुस्सैल होता है ,दूसरे की बातों को ना सुनने वाला होता है, ज्यादा झगड़े लड़ाई करने वाला होता है सप्तम भाव के मंगल को वैवाहिक जीवन में सबसे अशुभ मांगलिक योग कहा गया है और यदि यही मंगल सातवें भाव में अच्छे ग्रह के साथ बैठा हो ऐसे लोगों को मान सम्मान मिलता है संपदा मिलती है और वैवाहिक जीवन खुशहाल रहता है अगर मंगल कुंडली के आठवें भाव में हो तो जातक को  वाणी मैं दोष उत्पन्न  कर देता है जिसके चलते जातक को अकेलेपन का एहसास होता है कभी कभी त्वचा संबंधी बीमारियां भी दे देता है दुर्घटनाओं के योग भी दे देता है अगर अष्टम भाव में बैठा मंगल शुभ फल दे तो आकस्मिक धन का लाभ भी होता है | यदि मंगल कुंडली के द्वादश भाव में हो तो ज्यादा जातक को स्थिर नहीं होने देता मन में ज्यादा बेचैनी उत्पन्न न कर देता है | द्वादश भाव का मंगल दैनिक जीवन में एक दूसरे के प्रति अहंकार भर देता है | वहीं मंगल यदि द्वादश भाव में अच्छे योग में बैठा हो  घर से दूर विदेशों में जाकर मान प्रतिष्ठा पा लेता है सबका प्यार पा लेता है मांगलिक होने का अर्थ यह नहीं है कि वह हमेशा बुरा ही करें मांगलिक होने के साथ-साथ मंगल ग्रह सभी फल देता है |


कैसे खत्म किया जा सकता है मांगलिक दोष को

जीवन मे मंगल ग्रह से वाकई समस्याएं आ रहे हैं पति पत्नी के बीच रिश्ते अच्छे नहीं हैं शरीर कमजोर है आत्म बल नहीं है साहस नहीं है तो हमें मंगल ग्रह को ठीक करना होगा मंगल ग्रह को ठीक करने के लिए हमारे ज्योतिष शास्त्र में अनेक उपाय कहे गए हैं उन उपायों में से कुछ उपाय हम यहां पर बता रहे हैं मंगलवार का व्रत करें, मंगल ग्रह का जाप करें, हनुमान चालीसा का नित्य पाठ करें, लाल कपड़ों से परहेज करें, अपनों से बड़ों का सम्मान करें |

तो दोस्तों ये था मंगल ग्रह से सम्बंधित कुछ खास जानकारी यदि आप के पास कोई सवाल या सुझाब हे तो कृपया आप हमसे संपर्क करे  |
शादी और मांगलिक योग,shadi aur mangalik yog शादी और मांगलिक योग,shadi aur mangalik yog Reviewed by Ourbhakti on November 23, 2018 Rating: 5
Powered by Blogger.