पितृ पक्ष में ऐसे करे बिना पंडित के श्राद्ध । bina pandit sharad kaise kare - Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

Latest

पितृ पक्ष में ऐसे करे बिना पंडित के श्राद्ध । bina pandit sharad kaise kare

 Bina pandit ke sharadh kaise kare । बिना पंडित श्राद्ध कैसे करे

Bina pandit ke sharadh kaise kare । बिना पंडित श्राद्ध कैसे करे
श्राद्ध के दिन पंडित न मिले तो कैसे करे श्राद्ध? पितृपक्ष में बिना पंडित के श्राद्ध कैसे करें? घर मे बिना पंडितजी कैसे करे पितृ कर्म। पंडितजी के बिना पितृ तर्पण कैसे करे?

कई बार ऐसा होता है जब हमें पंडित जी नही मिलते या ऐसा होता है हम पंडित को पितृ कर्म श्राद्ध करने के लिये कई दिन पहले निमंत्रण देते है पंडित जी भी आने की बात करते है।

फिर भी पंडित जी श्राद्ध के दिन नही आ पाते इसमें कई कारण हो सकते है  पंडितजी को कोई असुविधा हुई होगी रास्ते मे गाड़ी खराब हुई होगी , या वो खुद बीमार होगये होंगे इसमें उनसे नाराज होने की कोई बात नही।

अब ऐसी स्थिति बिना पंडितजी के श्राद्ध कैसे करे ?😢 गुरु के बिना पितृ तर्पण कैसे सम्पन्न करें? क्या ऐसा कोई तरीका या विधि है जो पंडित के बिना पितृ कर्म किया जा सकता है?

आप को ये पोस्ट👇 भी पढ़ना चाहिये

जीवन में ये 6 प्रकार के श्राद्ध अवश्य करे

Bina pandit ke sharad karne ke niyam | बिना पंडित के पितृ पक्ष में श्राद्ध करने के नियम

  • श्राद्ध के एक दिन पहले मुंडन संस्कार करे
  • एक दिन पूर्व सिर्फ एक बार ही सात्विक भोजन करे
  • संभव होतो शीले कपड़े न पहनें पिला या सफेद धोती पहने।
  • अपने विचार पवित्र रखे।
  • अपने घर की अच्छे से सफाई करें।
  • श्राद्ध की सामग्री एक दिन पहले ही मैनेज करें।

Bina pandit sharadh pitri karma kaise kare | बिना पण्डितके श्राद्ध पितृकर्म कैसे करे

Bina_pandit_sharadh_pitri_karma_kaise_kare
श्राद्ध उसी को कहते है जो श्रद्धा पूर्वक पूरी लगन से करे भक्ति भाव से करे , पितृ कर्म एक ऐसा कर्म है जो बिना गुरु मार्गदर्शन के संपन्न नही हो सकता पंडित के बगैर आप कोई भी कर्म नही करा सकते चाहे वो दैविक हो या पैतृक ।

श्राद्ध करने से पहले हमें गौमूत्र का सेवन करना पड़ता है जो पंडित के बिना नही हो सकता क्योंकि गौमूत्र में विशेष मंत्र बोलना पड़ता है। ब्राह्मण निमंत्रण करना पड़ता है, ऋषि तर्पण, देवता तर्पण,मनुष्य तर्पण ,पितृ तर्पण , भूस्वामी सीधा(अन्न) दान,पितृ सीधा दान फिर पिंड वेदी निर्माण और अंत मे पिंड दान देना पड़ता है।


तब जाकर श्राद्ध का कर्म पूरा होता है यहाँ मैंने बिना पंडित के पितृ कर्म कैसे करे शार्ट में बताया और भी बहुत सारे काम है जो हमे पंडित के मार्गदर्शन में करना पड़ता है । बात वही आकर रुक जाती है यदि पंडित न मिले तो बिना पंडित(पुरोहित) के पितृ कर्म(श्राद्ध) कैसे करे?

Bina purohit pandit ke sharad kaise kare । बिना पुरोहित पितृ कर्म श्राद्ध कैसे करे?

श्राद्ध के दिन सुबह जल्दी उठकर  घर की साफ सफाई करें स्वच्छ शुद्ध शाकाहारी भोजन बनाएं पहला भाग गाय को खिला दे, दूसरा भाग कुत्ते को खिला दे , तीसरा भाग कौवे को खिलाये चौथा भाग किसी भूखे व्यक्ति को खिलाये  और अंत में परमात्मा का नाम लेते हुए अपने पितरों से आशीर्वाद मागते हुये खुद पितृप्रसाद ग्रहण करें ऐसा करने से आप के श्राद्ध की औपचारिकता पूरी हो जाती है लेकिन श्राद्ध पूरी नहीं होगी।

आप अमावस्या के दिन पंडित जी को बुलाकर श्राद्ध कर्मअवश्य करें तभी जाकर आप का श्राद्ध पूर्ण होगा बिना पंडित के श्राद्ध पूरा हो ही नहीं सकता भरम में बिल्कुल ना रहे

Tag- pitri pak special,sharad karma, pitaron ka sharadh, bina pandit ke sharadh kaise kare,pandit bina sharad,