एसे ब्राह्मण पंडितों से कभी पूजा मत करना - Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

Latest

एसे ब्राह्मण पंडितों से कभी पूजा मत करना

 pujapaath ke liye sahi pandit kaun | एसे ब्राह्मण पंडितों से कभी पूजा  मत करना

दुनिया में ब्राह्मणों की कोई कमी नहीं हैं हर कोई जनेऊ पहनकर ब्राह्मण होने का दावा करते हैं आखिर हम सच्चे ब्राह्मण को कैसे पहचाने ? आजकल के ब्राह्मणों को क्या कहे पंडित पुरोहित या पुजारी? आखिर सच्चा ब्राह्मण कौन हैं (sachha brahman kaun hain)

पूजा-पाठ जप हवन संध्या ये  ब्राम्हण के मुख्य कर्मकांड है और हमारे सनातन धर्म का अभिन्न अंग भी है इसके बिना हमारी संस्कृति व हिन्दू धर्म अपूर्ण है।

ऊपर बताये गए कर्म को करने के लिये हमें ब्राह्मण की आवश्कता होती है बाह्मणों के विना ये कार्य संभव नही है। 

पूजा पाठ कर्मकांड जप हवन करने का लाभ हमे तभी मिलता  है जब कोई पंडित ब्राह्मण इनको ईमानदारी से करे।

ब्राम्हण का वरण  करने के पश्चात ही यह कर्म सफल होते है हिन्दू धर्म मे सभी ब्राह्मणों को पूजा पाठ करने का अधिकार नही है

ऐसे ब्राह्मणों से पूजा पाठ कभी न कराये जो ब्राह्मणों के नाम पे कलंक है जो पंडित खुद कुछ नही करता वो आपका काम कैसे करेगा।

ब्राह्मण कूल में जन्म लेना  कोई बड़ी बात नही है जन्म तो सभी का किसी न किसी कुल में होता है।

कौन है ब्राम्हणों पंडितों के नाम पर कलंक। kaun hai brahman  k naam pe kalank

sacha brahman kaun hain | एसे ब्राह्मण से कभी पूजा  मत करना
 sachha brahman panditkaun hain


जो व्यक्ति उच्च कुल ब्राह्मण परिवार में पैदा होकर नीच कर्म करता है शराब पीता है तमसी पदार्थो का सेवन करता है जुवा खेलता है

स्त्री गमन करता है रात को देरी से सोता है सुबह देरी से जगता है दुसरो के धन पर आँखे जमाये रहता हैऐ लोग ब्राह्मण नही हो सकते ये तो ब्राह्मण के नाम पर कलंक है।

ब्राह्मण किसे कहते है।brahman kise kahte hain

ब्राह्मण शब्द सुनते ही हमारे मन मे अनेक भ्रांतियां जन्म लेती हैं। क्यूंकि हमारे समाज की सबसे बड़ी कमजोरी ही जातिवाद है।

ब्राह्मण को जाती मान लेते है आपको बतादूँ ब्राह्मण एक वर्ण है कोई जाति नही। हमारे सनातन वैदिक धर्म मे  चार प्रकार के वर्ण है।ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र।

सच्चा ब्राह्मण कौन है? | sachha brahman kaun hai?

जो ईश्वरवादी है वेद पाठ करने वाला है सबसे सरल, एकांतप्रिय, सदा खुश रहनेवाला सत्य वचन बोलने वाला ,नित्य संध्या गायत्री जप करने वाला, जिसने आहार निद्रा भय और मैथुन पर विजय प्राप्त की हो वही सच्चा ब्राम्हण हैं ।

ब्राह्मण का कर्म क्या हैं  । brahman ka karma kya hai

ब्राह्मण के कुल 3 कर्म है । brahman k 3 karma hain

  1.  खुद पढ़े और दूसरों को भी पढाये
  2.  स्वयं दान ले और दूसरों को भी अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान दे
  3. खुद भी पूजा करे और अपने घर मे दुसरे ब्राह्मणों को बुलाकर पूजा कराये

ब्राह्मण कितने प्रकार के होते है। brahman kitne prakar k hote hai


ब्राह्मण को इस कलियुग में साक्षात देवता का स्वरूप माना गया है इसलिए ब्राह्मण हमेशा पूजनीय होते है इनका अपमान कभी न करे 

स्कन्द पुराण के अनुसार ब्राह्मण आठ प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार हैं-

  1. द्विज- जिसने जनेऊ धारण किया है वो ब्राह्मण 'द्विज' कहलाता है।
  2. विप्र- जो नित्य वेद का अध्ययन करता है वो वेदपाठी 'विप्र' कहलाता है।
  3. श्रोत्रिय- जो  वेद की किसी एक शाखा में 6 वेदांगों सहित अध्ययन करके ज्ञान प्राप्त करता है उसे 'श्रोत्रिय ब्राह्मण' कहते हैं।
  4. अनुचान- जो  चारों वेदों को पढ़ कर ज्ञान प्राप्त करता है, उसे 'अनुचान ब्राह्मण' कहते है।
  5. ध्रूण- जो ब्राह्मण नित्य हवन और स्वाध्याय करता है उसको 'ध्रूण ब्राह्मण, कहा जाता हैं।
  6. जितेंद्रिय- जो अपने खुद के इन्द्रियों को अपने वश में कर लेता है वही  'जितेंद्रिय' ब्राह्मण कहलाता है।
  7. ऋषि-  श्राप व वरदान देने में जो समर्थ होता है, जिसने आठों सिद्धियां प्राप्त की हो उसे 'ऋषि ब्राह्मण' कहते हैं।
  8. मुनि संत - जो ब्राह्मण काम-क्रोध से रहित  जो सभी जड़-चेतन में भेद भाव नह रखता, उसे ही 'मुनि' कहते है।

किस ब्राह्मण से कर्म कांड पूजा  कराना चाहिये । kis brahman se puja paath karana chahiye?

सबसे पहले तो यह स्पस्ट करदूँ यजमान के घर जाकर पूजा पाठ करने वाला न ही ब्राह्मण होता है और न ही पंडित यजमान के घर  जाकर पूजा हवन करने वाला पुरोहित होता है।


जो पुरोहित अपने यजमान का हमेशा कल्याण  सोचता हैं अपने मन में किसी प्रकार का लालच नहीं रखता रास्ते में चलते हुये भी अपने जजमान के भले के लिये प्रभु से प्राथना करता हैं वही सच्चा पुरोहित है। हमेशा ऐसे पुरोहित से ही पूजा करना चाहिये।

Tag-sachha brahman kaun hain,brahman kaun hain,brahman kitne prakar ke hote hain,puja kis brahman se karaye