Secrets of ramayana | रामायण से जुड़े कुछ तथ्य जिनसे दुनिया अनजान है

 Secrets of Ramayana | जानें रामायण से जुड़े कुछ तथ्य जिनसे दुनिया अनजान है

आज हम कुछ रामायण के ऐसे रहस्य Secrets of ramayana के बारे में जानेंगे जिसको जानने के बाद आप को वाकई  लगेगा कि यह बात तो हमें नहीं पता था।

शायद ही ऐसा कोई होगा जो रामायण को नहीं जानता रामायण नामक ग्रंथ से हम सभी परिचित हैं उसकी कथाओं को भी जानते हैं उनकी पात्रों के विषय में भी हमको लगभग पता होगा लेकिन रामायण में भी कुछ ऐसे  रहस्य छुपे हुए हैं जो कभी सामने नहीं आए।


Secrets of ramayana
Secrets of ramayana


  • रामायण का ग्रंथ ऐसा नहीं है कि राम के जन्म बाद लिखी गई रामायण का ग्रंथ भगवान श्रीराम के जन्म से हजारों वर्ष पहले ही लिखी गई थी।

आप इसे भी पढ़ सकते हैं.. हनुमान जी की प्रिय सामग्री क्या क्या हैं ?

इस अद्भुत ग्रंथ की रचना महर्षि वाल्मीकि ने की थी रामायण में 24000 श्लोक हैं 500 उपखंड और 7 कांड उपस्थित हैं जिनका नाम इस प्रकार है-


बाल कांड,अयोध्या कांड,अरण्य कांड,किसकिन्धा कांड,सुन्दर काण्ड,लंका कांड,उत्तर कांड

Ramayana Secret रामायण की विषेस बातें 


  • रामायण ग्रंथ के अनुसार भगवान श्रीराम का जन्म चैत्र शुक्ल नवमी को पुनर्वसु नक्षत्र और कर्क लग्न में हुआ था  जिसको हम लोग रामनवमी के नाम से जानते हैं।


  • भगवान राम का जन्म सबसे उत्तम ग्रहों की स्थिति में हुआ था जिस समय भगवान राम का जन्म हुआ था उस समय सभी ग्रह अच्छी स्थिति में थे।



  • भगवान राम और राम की सभी वानर सेनाओं को समुद्र में पुल बनाने के लिए सिर्फ 5 दिन का ही समय लगा था।Secrets of ramayana

आप इसे भी पढ़ सकते हैं.....  हनुमान को प्रिय है सिंदूर?

इस बात को तो सभी लोग जानते हैं लक्ष्मण ने शूर्पणखा का नाक काट दिया था लेकिन इस बात को बहुत कम लोग ही जानते हैं की शूर्पणखा ने ही अपने भाई रावण का सर्वनाश हो ऐसा श्राप स्वयं दिया था क्योंकि रावण ने शूर्पणखा के पति  को मार दिया था।


  • जब हनुमान ने पूरी लंका में आग लगाई तो उस समय हनुमान जी की नजर सूर्यपुत्र शनिदेव पर पड़ी जो रावण ने बंधक बनाकर रखा हुआ था इस बीच हनुमान ने शनि देव को को बंधन से मुक्त कराया तब शनिदेव ने हनुमान को यह वचन दिया कि जहां पर भी आपका नाम लिया जाएगा जो भक्त आप  के  गुण और भगवान राम का गुणगान करेंगे उनके ऊपर मेरी कृपा हमेशा बनी रहेगी  इसी कारण सभी हनुमान भक्त शनिवार के दिन हनुमान चालीसा आदि का पाठ बड़े ही मन से करते हैं।



  •  बहुत सारे लोगों को यही पता है कि रावण ने सीता का ही हरण किया है। लेकिन वह इस बात को नहीं जानते रावण ने सीता का हरण नहीं किया बल्कि सीता के प्रतिबिंब का हरण किया था। यह सब भगवान राम की ही इच्छा से हुआ था।Secrets of ramayana

आप इसे भी पढ़ सकते हैं.... रामायण के मुख्य पात्र के नाम और विवरण

  •  आज के दौर में हम जिस बंदर को देखते हैं और सोचते हैं कि यह तो स्वयं हनुमान का स्वरूप है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है हनुमान बिल्कुल भी बंदर जैसे नहीं दिखते थे ऐसा कहा जाता है कि उस समय एक कपि नामक बंदरों की  जाति थी हनुमान उसी जाति के थे बंदरों की जाति होने के कारण आधुनिक बंदरों को भी हनुमान का ही दर्जा दिया जाने लगा। हां ऐसा जरूर है कि उनका कुछ कुछ अंग बंदरों के समान  था।

  • भगवान राम के कथा को और किसी ने नहीं बल्कि उनके ही पुत्रों लव और कुश ने भगवान राम के ही आगे सुनाई थी लव और कुश ने भगवान राम के सामने यह कहा था कि हमारे भाग्य खुल गए जो राम कथा स्वयं राम के आगे हम गा रहे  हैं।



  • आप लोगों ने शायद गौर किया होगा कोई भी मां बाप अपने बच्चों का नाम कैकई मंथरा  शूर्पणखा आदि कोई नहीं रखता ऐसा माना जाता है कि यह सब नाम कलंकित है लेकिन यह पूरी तरह सत्य नहीं है।


 हम पूरी विश्वास के साथ यह कह सकते हैं की रामायण से जुड़ी यहां रहस्य Secrets of ramayana की बात बात रहस्य की बात की बात रहस्य की बात बात जानने के बाद रामायण के लिए श्रद्धा विश्वास और अधिक बढ़ गया होगा ऐसे ही रोचक और ज्ञानवर्धक बातें जानने के लिए कृपया हमें फॉलो करें।

Post a Comment

0 Comments