बच्चे का दाँत निकलने का फल | mahine k anusar daat nikalne ka phal - Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

Latest

Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

ourbhakti.com - पर आपका स्वागत हैं यहाँ से आप हिन्दू धर्मं से सम्बंधित जानकारी जैसे ज्योतिष विज्ञान ,पूजा पाठ ,ग्रह शांति , हवन ,व्रत कथा ,वास्तु ,राशिफल, साथ ही सनातन धर्मं की रोचक जानकारी पा सकते हैं ।

बच्चे का दाँत निकलने का फल | mahine k anusar daat nikalne ka phal

mahine k anusar daat nikalne ka phal | बच्चे का दाँत निकलने का सही समय और फल 

बच्चों का किस महीने में दांतो का निकलना(bache ka daat nikalna)शुभ और अशुभ होता है(mahine k anusar daat nikalne ka phal)इसको जानना हमारे लिए बेहद आवश्यक है आम तौर पर बच्चों का दांत 6 महीने में निकलना शुभ माना जाता है। इससे मा बाप को ज्यादा खुशी की प्राप्ति होती है। रुके हुए कार्य बनने लगते हैं। परिवार गरीवी की रेखा से आगे निकल जाता हैं। अगर बच्चे का दांत और किसी दूसरे महीने में निकलता है तो शुभ होता है या अशुभ चलिये जानते है।


बच्चे का दाँत निकलने का फल | mahine k anusar daat nikalne ka phal

बच्चे का जन्म के समय मे दांत निकालना  |  janma k samay daat nikalna

जिस बच्चे के जन्म लेते समय ही दांत होते हैं उनके लिए यह अच्छा संकेत नही हैं इस प्रकार के बच्चे अपने माता-पिता के लिए काफी कष्टकारी  और दुखदाई साबित होते हैं माँ बाप  दोनों का ही स्वास्थ्य पर काफी नकारात्मक असर डालता है।

उपर के दात पहले आना  | uper k daat pehle aana
सामान्य तौर पर  छोटे बच्चों का पहले नीचे वाला दांत आता है वैदिक ज्योतिष के अनुसार अगर बच्चों का ऊपर का दांत सबसे पहले निकल जाए तो यह बच्चे के मामा पक्षो के लिए शुभ नही माना जाता।

बच्चे के दांत पहले महीने में निकलना | pehele mahine me daat aana
पहले महीने में दांत निकालना बच्चों के लिए बहुत ही दुखदाई होता है  इससे खुद उस बच्चे को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

दूसरे महीने में बच्चों का दांत आना  |  dusre mahine me daat nikalna
दूसरे महीने में दांत आना भी शुभ नहीं माना गया है खुद के लिए तो यह कुछ नहीं होता लेकिन अपने भाइयों के लिए यह बहुत ही अशुभ होता है।

तीसरे महीने में दाँत आना  | tisre mahine me daato ka aana
जिन बच्चों के दांत तीसरे महीने में आते हैं इसको भी अशुभ माना गया है इस प्रकार के बच्चे अपने बहन के लिए बहुत ही कष्टकारी होते हैं।

चौथे महीने में दांत निकलना  | char mahine me dat ana
अगर बच्चों का दांत चौथे महीने में महीने में निकलता है तो माता का स्वास्थ अक्सर खराब होने लगता है स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना बच्चे के माता को भुगतना पड़ता है।

पांचवे महीने में दांत निकालने का मतलब
पांचवे महीने में दांत निकालने से बच्चे के बड़े भाई को कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है चाहे वह आर्थिक हो या अपने कैरियर से संबंधित हो इससे बड़े भाई के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ता है।

महीने के अनुसार  बच्चे का दाँत निकलने का फल | mahine k anusar bache ka daat nikalne ka phal

बच्चे के दांत निकलने का फल

छे महीने में दांत निकलना
वह बच्चे बहुत ही भाग्यशाली होते हैं जिन बच्चों का दांत 6 महीने में निकल जाता है। इस प्रकार के बच्चे को जीवन में कामयाबी पाने के लिए बिल्कुल समय नहीं लगता है बहुत छोटी सी उम्र में  बहुत बड़े मुकाम तक पहुंच जाते हैं और उनके माता-पिता काफी खुश होते हैं।

7 महीने में दांत निकालना
बच्चे का दांत 7 महीने में निकलने से सबसे ज्यादा पिता को फायदा होता है कारोबार में वृद्धि होती है रुके हुए काम चल पड़ते हैं व्यापार में वृद्धि होती है।

आठवें महीने में दांत निकलना
आठवें महीने में दांत निकलने से मामा पक्ष (ननिहाल) में काफी  नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

नौवें महीने में दांत निकलना
नौवें महीने में दांत निकलने से सभी पक्षों में खुशी की लहर दौड़ती है सभी लोग बहुत ही खुश होते हैं धन में बहुत तेजी से वृद्धि होती है पैसे आने के रास्ते खुल जाते हैं।

दसवें महीने में दांत निकलना
 दसवें महीने में दांत आने से सांसारिक सुख में किसी प्रकार की कमी नहीं होती है बच्चे का जीवन पूरी तरह से एसो आराम भरा  होता है।

11 और 12 महीने में दांत आना यह भी सुख शांति समृद्धि का सूचक होता है इससे सभी सुखी रहते हैं।

गलत  महीने  में बच्चे का दाँत निकलने का उपाय ,galat mahine me chote bachhe ka daat nikalne ka upay

यदि आपके बच्चे का दांत जन्म से लेकर 5 महीने के अंदर में निकलता है तो यह बहुत ही अशुभ होता है इसके लिए आपको कुछ खास उपाय करने चाहिए।


  • हमेसा बच्चे का सिर पूरब दिशा की ओर रखकर  सुलाना चाहिए।
  • बच्चे को झूले में झूलाने से पहले भगवान विष्णु का ध्यान करके पूरब दिशा की ओर सर रखकर झुलाना चाहिए।
  • रोज भगवान विष्णु का पूजन करके बालक को पीले चंदन का टीका लगाएं।
  • बच्चे को रोज सुबह भगवान सूर्य का दर्शन अवश्य कराएं
  • पूर्णिमा के दिन चंद्रमा के दर्शन कराना भी काफी फायदेमंद होता है।
  • जितना हो सके बच्चे को मंदिररो का दर्शन अवश्य कराये।
  •  बच्चे को लेकर कहीं आप बाहर जाएं तो सबसे पहले घर में स्थित मंदिर में माथा टेककर फिर मंदिर का एक फूल अपने पास जरूर रखें


 बच्चों का दांत निकलना  पहले वर्ष की सबसे महत्वपूर्ण घड़ी होती है  इसीलिए ऊपर बताए गए उपाय को ध्यान पूर्वक एक करके अवश्य करें उपाय को करने से आपके बच्चे के ऊपर या आपके ऊपर इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा।
tag-mahine k anusar daat nikalne ka phal,बच्चे का दाँत निकलने का फल ,daat nikalne ka phal,bachhe ka dat 

No comments:

Post a comment

इस लेख से सम्बंधित अपने विचार कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं