Ekadashi tithi me bhoolkar bhi na kare ye galti - Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

Latest

Our bhakti- ज्योतिष,राशिफल,व्रतकथा,हिन्दु धर्म,

ourbhakti.com - पर आपका स्वागत हैं यहाँ से आप हिन्दू धर्मं से सम्बंधित जानकारी जैसे ज्योतिष विज्ञान ,पूजा पाठ ,ग्रह शांति , हवन ,व्रत कथा ,वास्तु ,राशिफल, साथ ही सनातन धर्मं की रोचक जानकारी पा सकते हैं ।

Ekadashi tithi me bhoolkar bhi na kare ye galti

 Ekadashi tithi me kya kare kya na kare | एकादशी में क्या करे क्या नहीं करे 

एकादशी बहुत ही पुण्य प्रदान करने वाला दिन है एकादशी तिथि में किया गया व्रत शीघ्र ही फलदाईं होता है । इसलिये हमे कुछ बातों पर ध्यान देना होगा एकादशी के दिन हमे क्या करना चाहिये और क्या नही करना चाहिये इस बात का ज्ञान अवश्य होना चाहिये।

Ekadashi tithi me bhoolkar bhi na kare ye galti
Ekadashi tithi me bhoolkar bhi na kare ye galti


एकादशी तिथि मैं क्या खाएं, क्या न खायें और क्या करने से बचे

  • एकादशी में पेड़-पौधों के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए।भगवान विष्णुजी की पूजा में तुलसी  का पत्ता चढ़ाना है तो उसे एक दिन पहले ही तोड़कर रखना चाहिए।
  • एकादशी में झाड़ू न  लगाये  अगर लगाना ही है तो सूर्य अस्त से पहले लगाए  मान्यता है कि एकादशी में झाड़ू लगाते समय अगर एक भी जीव मर जाये तो बहुत बड़ा पाप लगता है।
  • एकादशी के दिन रात को अकेले ही सोना चाहिए पत्नी के साथ न सोये भोग  विलाश से इस दिन बचना चहिये।
  • बाल नाखून बिल्कुल न काटे एसी भी मान्यता हैं की इस दिन बालों मैं तेल और साबून भी नहीं लगाना चाहिए
  • एकादशी के दिन दुसरो के घर मे भोजन बिल्कुल न खायें
  • इस दिन जितना हो सके कम बोलने का प्रयास करे दूसरों की बुराई न करे फिजूल की बात बिल्कुल न करे
  • ऐसी भी मान्यता है कि एकादशी में रात को नही सोना चाहिये रातभर जागकर भगवान विष्णु का भजन करना चाहिये। इस बात को भी नकारा नही जा सकता कि इस भागदौड़ भारी जिंदगी में हर एकादशी में रात को जागरण करना संभव नही इसलिए जितना संभव और सरल हो उतना ही करे।
ये भी पढ़े👉 तुलसी विवाह की अद्भुद कहानी 

Ekadashi tithi me kya na khaye | एकादशी तिथी मैं न क्या खाएं

  • एकादशी के दिन भूलकर भी चावल न खाये
  • विष्णु पुराण के अनुसार एकादशी पर चावल खाने से सभी पुण्य समाप्त हो जाते है क्योंकि चावल को हविष्य अन्न कहा गया है हविष्य अन्न देवताओं के भोजन को कहा जाता हैं।
  • एकादशी  पर जौ, मसूर की दाल, बैंगन और सेमफली बिल्कुल न खायें।
  • एकादशी तिथि में भगवान विष्णु की पूजा में मीठा पान चढ़ाया जाता है इसलिए इस दिन पान खाना भी मनाही है।
  • एकादशी पर्व पर मांस, मदिरा, प्याज़, लहसुन जैसी तामसी चीजों से भी दूर रहना चाहिए।
  • इस दिन किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा दिया गया अन्न भी स्वीकार न करें, इससे पुण्य नष्ट हो जाते है।
  • अगर आप नशा करते हैं तो इस दिन नशा करने से बचे 
  • एकादशी के दिन गाजर,शलजम,पत्ता और फूल  गोभी, पालक साग , आदि  का सेवन न करे 


Ekadashi me kya khaye | एकादशी में क्या खाये ?

एकादशी के दिन आप जो भी प्रसाद खाये उसे पहले भगवान विष्णु को भोग लगाकर ही खाये भगवान् के भोग में तुलसी का पत्ता अवश्य चढ़ाये 

  • एकादशी के दिन आप केला आम,अनार ,सेव ,अंगूर, बादाम, पिस्ता का सेवन  कर सकते हैं 
  • इस दिन आप कुट्टू के आटे की रोटी खा सकते हैं वो भी सिर्फ शाम के समय
  • बहुत लोग इस दिन सेवई और दलिया का सेवन करते हैं जो की गलत हैं 

ये भी पढ़े 👉 भगवान शालिग्राम की अद्भुद और रोचक जानकारी 

हम आशा करते है आपको एकादशी व्रत से संबंधित ये जानकारी  पसंद आई होगी ऐसे ही ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिये कृपया हमारा वेबसाइट ourbhakti.com पर फॉलो करना न भूले।

धन्यबाद🙏

Tag-ekadashi tithi me,ekadashi me kya kare,ekadashi tithi me kya na kare,ekadashitithi me dhyan dene yogya batein,

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

इस लेख से सम्बंधित अपने विचार कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं