kalsarp dosh | कालसर्प दोष से क्यों डरते हो

kalsarp dosh | कालसर्प दोष से क्यों डरते हो

आजकल सबसे ज्यादा डराया जाता है kalsarp dosh को लेकर आखिर क्यों इतना डरते हैं kalsarp dosh योग से! कहा से आया kaal sarp dosh  पाखंडी पंडित ज्यादा लोगो को  डराते हैं kalsarp dosh के नाम से  कहते हैं 
  kalsarp dosh niwaran पूजा करालो नहीं तो आपका बहुत बुरा होगा ,घर में कभी शांति नहीं होगी। या तो अन्य कोई "कालसर्प योग के उपाय" लोगों के जेब खाली कराते हैं।

kalsarp dosh | कालसर्प दोष से क्यों डरते हो
kalsarp dosh in hindi
सामान्य आदमी तो डर भी जाता हे क्यों की इस बात को इतना मिलाके सटीक से कहेते हे की सुनने वाला तो घबरा ही जाता हे फिर कुछ नाम के ज्योतिषी इसका फायदा उठाने से पीछे नहीं हटते आज हम इस लेख की माध्यम से kalsarp dosh के बिषय में पूरी जानकारी देंगे।

कालसर्प योग को जितना बड़ा बना दिया गया है वास्तव में वह उतना बड़ा है नहीं सर्प योग के विषय में बहुत ज्यादा बढ़ा चढ़ाकर बातें कही जाती है। कालसर्प योग मतलब राहु और केतु के बीच में सभी ग्रहों का आ जाना।

 यदि राहु और केतु से एक भी ग्रह बाहर हो तो कालसर्प योग भंग हो जाता है ।  कुछ नाम भर के ज्योतिषी और पंडित लोग तो यहां तक कह देते हैं  की कुंडली में आंशिक कालसर्प दोष है  अतः इसकी शांति कराइए। कुंडली

मे यह योग ना होते हुए भी आंशिक कालसर्प योग का नाम दे दिया जाता हैं।ऐसा नही है कि यह योग नही होता!  यह योग होता है बस हमे इसको सही से जानने की और समझने की जरूरत है।हम आप को एक बात स्पस्ट

बतादे की कालसर्प एक योग है ना कि कोई दोष। अगर हम प्राचीन ज्योतिष की पुस्तकों की बात कहें चाहे वह कोई भी पुस्तक हो  पाराशर की पुस्तक हो, होरा शास्त्र की पुस्तक हो,या कोई और   किसी पुस्तक में  यह बात

 नहीं लिखी है कि कालसर्प योग नाम कोई योग होता है, यह योग तो हाल ही में प्रचलन में आया है।
क्या होता हे मांगलिक योग ?

 what is kalsarp dosh | काल सर्प दोष किसे कहते हैं 


सामान्यतः राहु और केतु के बीच में सभी ग्रह आ जाने से कालसर्प योग नाम होता है इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है के जीवन में जो भी घटनाएं घट रही है जो भी मुश्किलें और दिक्कतें आ रही हैं उन सब के पीछे का कारण

 kalsarp dosh है! इसके अतिरिक्त कुंडली में और भी ऐसे बहुत सारे योग  होते हैं जिसके चलते व्यक्ति को समस्या का सामना करना पड़ता है हमें कालसर्प योग के साथ साथ और भी ग्रहों को देखना होता है तभी जाकर

 हमें यह पता लगता है समस्या किस वजह से आ रही है। जिसको लोग kaal sarp dosh के नाम से जानते हैं वैसा कुछ होता नहीं है। वह  तो सिर्फ एक राहु और केतु से  बनने वाला योग है, ज्योतिष में हजारों प्रकार के योग

होते हैं कोई अच्छे होते हैं और कोई योग  बुरे होते हैं जीवन में राहु और केतु समस्या दे सकते हैं इंकार नहीं किया जा सकता  क्योंकि राहु और केतु को शास्त्र में पौराणिक मान्यता भी मिली है और ज्योतिष की मान्यता भी मिली है।

यदि कुंडली में राहू और केतु की वजह से एसी समस्या आरही है तो उसकी शांति किस प्रकार की जाये अब इस विषय पर बात करते हैं ।

क्या काल सर्प योग हमेशा ही बुरा करता है


कालसर्प योग सभी को बुरा नहीं करता कालसर्प योग के अच्छे परिणाम भी मिलते हैं यह सभी को बुरा नहीं करता ऐसे बहुत सारे उदाहरण हैं जिनकी कुंडली में इस प्रकार के योग देखे गए हैं जैसे सचिन तेंदुलकर, लता

kaal sarp dosh niwaran puja | कालसर्प दोष निवारण पूजा
मंगेशकर, धीरूभाई अंबानी इन सब की कुंडलियों में भी इस प्रकार के योग हैं जो कि बहुत अच्छे साबित हुए हैं दुनिया में इनका नाम है इन को कौन नहीं जानता।इसलिए इस प्रकार के योग अच्छे भी होते हैं ।

kaha se aaya kaal sarp dosh | कहां से आया कालसर्प योग ?

इस बात को लेकर अनेक मत है की kaalsarp yog कहा से शुरू हुवा फिर भी एसी मान्यता है की  हमारे दक्षिण भारत के लोग पूजा-पाठ भक्ति भाव में बहुत ज्यादा विश्वास करते हैं  यह kaal sarp yog भी दक्षिण भारत से ही शुरू हुआ है एसा कहा जाता  है। पर ये वाकई सच है या झूट कोई नहीं जनता !

                       कालसर्प योग कितने प्रकार के होते हैं ?

काल सर्प योग १२ प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार हैं -

  1. अनंत कालसर्प दोष
  2. कुलीक कालसर्प दोष
  3. वासुकी कालसर्प दोष
  4. शंखफल कालसर्प दोष
  5. पदम् कालसर्प दोष
  6. महापदम कालसर्प दोष
  7. तक्षक कालसर्प दोष
  8. कर्कोटक कालसर्प दोष
  9. शंखनाद कालसर्प दोष
  10. घटक कालसर्प दोष
  11. विषधर कालसर्प दोष
  12. शेषनाग कालसर्प दोषऔर जानिए राहुकाल में कौन कौन से काम नही करना चाहिये 

kaal sarp dosh niwaran puja | कालसर्प दोष निवारण पूजा

काल सर्प दोष निवारण  की शांति के लिए कई उपाए बताये गये हैं 

नाग पंचमी के दिन कालसर्प दोष  की करे 
नित्य सूर्य को अर्घ दे ।
भगवान् शंकर की पूजा करे ।
हनुमान चालीसा का रोज पाठ करे ।
किसी नदी या सरोवर में जाकर भी काल सर्प योग की शांति किजाती हैं ।


अब तो आप को पता चल ही गया होगा kalsarp dosh के विषय में ,kaal sarp yog से बिलकुल डरने की जरुरत नहीं है ,बस थोडा सा समझ ने की जरुरत हे ।यदि हम जान के ,समझ के कोई काम करे तो जीवन की राह बहुत आसान हो जायेगी।

tag-kalsarp dosh, kaal sarp dosh types,kaal sarp dosh remedies
kalsarp dosh | कालसर्प दोष से क्यों डरते हो kalsarp dosh | कालसर्प दोष से क्यों डरते हो Reviewed by Ourbhakti on May 31, 2019 Rating: 5

2 comments:

  1. Bahut sare behen he jo hame janna jaruri hai .Achi jankari

    ReplyDelete
  2. kaal sarp dosh ek phailaya huwa jhoot hai

    ReplyDelete

इस लेख से सम्बंधित अपने विचार कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं
please don't enter any spam link in the comment box

Powered by Blogger.